*** prmparik – राग पूर्वी – त्रिताल छोटा ख्याल – कगवा बोले बोल

        राग पूर्वी – ताल त्रिताल – छोटा ख्याल –  कगवा बोले बोल

     स्थायी
        कगवा बोले बोल अटरिया
        अटरिया सुकुन भइलवा
        सखी री मोरी भुज फ़रकन लागे
    आंतरा
          आवन करो तुम मोरे पियरवा
          डारु गले फुलन के हरवा
         सखी री उनपर तनमन वारुं

 

 

 

In English – Raag Purvi Taal Tritaal – Chotaa Khyaal – Kagavaa Bole Bol 

 

Back to Chota Khyal Index

 

-x-

 

 

 

Advertisements

DE – द्रुत एकताल – राग शंकरा – छोटा ख्याल – शंकर भंडार डोले

राग शंकरा  छोटा ख्याल – द्रुत एकताल

Raag Shankaraa Chotaa Khyaal Drut Ektaal

१९/११/१९९८
०६/०४/१९९९

स्थायी : शंकर भंडार डोले , मस्तक पर चंद्र शोभे,

अंग नमो भस्म राग , नंदी गण संग डोले

आंतरा : मुंडन की माल साजे , सीस अंग नाद बाजे,

पंचवक्र तीन नेत्र , काशी राम जय बोले

स्थायी :

१० ११ १२
धीं धीं धागे त्रक तु ना कत्‌ त्ता धागे त्रक धी ना
X 0 2 0 3 4
स्थायी नी सां नी रेग रे *सासा
शं s भं s डा s डोs s लेs
X 0 2 0 3 4
सा गप सा सा
s स्त चंs s द्र शो s भे
X 0 2 0 3 4
सा सा नी सां सां
अं s मो s s स्म रा s
X 0 2 0 3 4
नीसां रेंगं रें सां नी सां नी
नं s दीs s सं s डो s ले
X 0 2 0 3 4

आंतरा :

  १० ११ १२
  धीं धीं धागे त्रक तु ना कत्‌ त्ता धागे त्रक धी ना
  X   0   2   0   3   4  
आंतरा सां सां सां सां सां गं सां
  मुं s की s मा s सां s जे
  X   0   2   0   3   4  
  नी सां नी नी सां नी
  सी s अं s ना s बा s जे
  X   0   2   0   3   4  
  सां गं गं पं पं रें गं रें सां सां
  पं s s क्र ती s ने s त्र
  X   0   2   0   3   4  
  नी सां नी सा
  का s शी रा s बो s ले s
  X   0   2   0   3   4